आर्यन खान केस से निकाले गए समीर वानखेड़े, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

मुंबई क्रू’ज ड्र’ग्स के’स. रोज़ नई कहानी, रोज़ नया मोड़. शुक्रवार 5 नवंबर को भी इस केस में नया मोड़ आ गया. खबर है कि ना’र’को’टिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने अपने जोनल अधिकारी समीर वानखेड़े को इस मामले की जांच से हटा दिया है. उनकी जगह अब वरिष्ठ पु’लिस अधिकारी संजय सिंह इस के’स की जांच करेंगे.

इस बीच ये अफवाह भी उड़ी कि NCB ने समीर वानखेड़े को उनके मौजूदा पद यानी मुंबई के जोनल डायरेक्टर के पद से हटा दिया है. हालांकि ये सही नहीं है. समीर वानखेड़े इस पद पर बने रहेंगे. उन्होंने खुद भी इसकी पुष्टि की है. आजतक से जुड़े तनसीम हैदर के मुताबिक समीर ने फोन पर बताया,“मैं मुंबई जोन का जोनल डायरेक्टर हूं. ये पद मुझसे नहीं लिया गया है. ये मेरी मांग थी कि सेंट्रल एजेंसी आर्यन खान के’स और नवाब मलिक के आरोपों की जांच करे. इसलिए ये अच्छा हुआ अब दिल्ली की SIT टीम जांच करेगी. मैं ड्र’ग्स के खिलाफ अपने ऑप’रे’शन करता रहूंगा. मुझे दिल्ली अटैच नहीं किया गया है. मेरे इस के’स से अलग होने के ऑर्डर कल आए हैं.”

समाचार एजेंसी ANI से बातचीत में भी समीर वानखेड़े ने ये सब जानकारी. उन्होंने कहा,“मुझे मामले की जांच से बरखास्त नहीं किया गया है. अदालत में मेरी एक याचिका थी कि इस मामले की जांच किसी केंद्रीय एजेंसी से की करवाई जाए. इसलिए अब आर्यन खान और समीर खान मामले की जांच दिल्ली NCB की एसआईटी टीम से करवाई जा रही है. ये मुंबई और दिल्ली की टीमों के बीच में समन्वय वाली बात है.”

नवाब मलिक क्या बोले?महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक लगातार इस मामले पर बेबाक बयान देते रहे हैं. समीर वानखेड़े शुरू से उनके निशाने पर हैं. अब उनको जांच से हटाए जाने की जानकारी सामने आने पर भी नवाब ने प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने ट्वीट कर कहा है,“आर्यन ख़ान केस समेत 5 मामलों से समीर वानखेड़े को हटाया गया है. कुल 26 मामले हैं जिनमें जांच की ज़रूरत है. ये तो बस शुरुआत है. इस सिस्टम को साफ़ करने के लिए अभी बहुत कुछ करना बाक़ी है और हम करेंगे.”

कौन हैं संजय सिंह?:आर्यन खान और मुंबई क्रूज ड्रग्स केस से जुड़े बाकी मामलों की जांच अब NCB की सेंट्रल टीम करेगी. और उस टीम का नेतृत्व करेंगे संजय सिंह. वे 1996 के ओडिशा कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं. एनसीबी में आने से पहले संजय सिंह ओडिशा पुलिस में बतौर अडिशनल कमिश्नर अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वे वहां आईजी (मॉर्डनाइजेशन) भी रहे. नवंबर 2020 में संजय सिंह को एनसीबी का डीडीजी यानी डेप्युटी डायरेक्टर जनरल बनाया गया. आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक वे 31 जनवरी 2025 तक इस पद पर रहेंगे.

NCB के ऑर्डर में क्या है?:एक विशेष जांच दल बनाया गया है. जिसमें NCB मुख्यालय के अधिकारी भी शामिल हैं. यह दल NCB मुंबई ज़ोनल यूनिट से कुल 6 मामले लेगा. ये केस राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय असर रखते हैं. इसलिए मामले की गहराई से जांच ज़रूरी है. किसी भी अधिकारी को उनकी मौजूदा भूमिका से नहीं हटाया गया है. वे ज़रूरत के हिसाब से इस जाँच में अपनी भूमिका निभाएंगे. NCB पूरे भारत में “एक एजेंसी” के रूप में कार्यरत है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.