आलम बदी UP के ऐसे MLA जिन्होंने बिना प्रचार के ही लगा दी जीत की हैट्रिक, लाइफ इतना सिंपल कि स्मार्टफोन के जमाने में भी चलाते हैं साधारण मोबाइल

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के सबसे उम्रद्राज विधायक आलमबदी ने निजामाबाद विधानसभा सीट पर जीत की हैट्रिक लगाई है. 86 वर्षीय आलमबदी ने जिले में सबसे अधीक मतों से जीतने वाले नेता भी बन गए हैं. आलमबदी जिले की सभी सीटों पर चुनाव जीतने को लेकर उत्साहित हैं, लेकिन प्रदेश में सरकार न बनने को लेकर निराश भी हैं. हालांकि जिले की सभी 10 विधानसभा सीटों पर सपा के प्रत्याशी विजयी हुए हैं.

स्मार्टफोन के जमाने में चलाते हैं सधारण मोबाइल
उत्तर विधानसभा चुनाव में जहां प्रत्याशियों ने करोड़ों रूपए खर्च कर किया, वहीं आलमबदी का चुनाव जनता ने लड़ा. विधानसभा के चुनाव में बोलेरो गाड़ी से चलते हैं, उस गाड़ी में डीजल के अतिरिक्त कोई खर्च नहीं हुआ.

आलमबदी की गिनती ईमानदार विधायकों में होती है. वह मामूली सा कपड़ा पहनते और हाथ में साधारण बटन वाला मोबाइल फोन रखते हैं.सादगीपूर्ण जीवन जीने वाले आलमबदी का इस बार विधानसभा चुनाव में विरोध भी हुआ था, लेकिन बाद में सभी लोग भी मान गए और जनता ने जिले में सबसे अधिक मतों से चुनाव जिताया.

बता दें कि आलमबदी की पहचान मुस्लिम लीग के नेता के रूप में होती रही है. आलम बदी का जन्म 16 मार्च 1936 को आजमगढ़ जिले के विन्दवल गांव में हुआ था. पेशे से इंजीनियर आलम बदी की पत्नी का नाम कुदसिया खान है. इनके 6 पुत्र और एक पुत्री है. आलमबदी समाजवादी पार्टी के सिंबल पर 1996-2002 से निजामाबाद विधानसभा से विधायक हैं. 2007 में इस सीट से बसपा प्रत्याशी अंगद यादव से पराजय का सामना करना पड़ा था पर 2012, 2017 के विधानसभा में आलम बदी विजयी हुए. 2022 के विधानसभा चुनाव में सपा ने फिर आलमबदी पर भरोसा जताया और सबसे अधीक मतों से जीत दर्ज की.

Leave a Reply

Your email address will not be published.