सड़को पर कचड़ा उठाता था यह क्रिकेटर, आज दिग्गजों की लिस्ट में है शामिल

जब कोई इंसान कुछ करने का ठान ले तो चाहे कितनी मुश्किलें सामने खड़ी हो वो उसे आसानी से पार कर लेता है। सामने पहाड़ हो या सिंह की दहाड़ अगर किसी ने रास्ता पार करने की ठानी है तो उसके हौंसलें के आगे ये सभी चीजें केवल नाममात्र बन जाती है। ऐसा ही कुछ क्रिकेट के मैदान में कुछ खिलाड़ियों ने दिखाया है, जिन्होंने काफी मुश्किलों को पार कर अपना एक बड़ा नाम बनाया है।

क्रिस गेल की गरीबी की कहानी, भूख मिटाने के लिए करनी पड़ी थी चो”री:-ऐसा ही कुछ टी20 क्रिकेट इतिहास के सबसे ख”तरनाक और बेजोड़ बल्लेबाज वेस्टइंडीज के क्रिस गेल के साथ हुआ है जिन्होंने अपने परिवार के साथ ऐसा खराब समय देखा है जिस पर आपको यकिन तक नहीं होगा।

क्रिस गेल ने अपने बचपन के दिनों में बहुत ही कठिनाई भरे दिन देखे हैं जहां पर उन्हें भूख मिटाने के लिए चोरी तक करनी पड़ी तो यहां तक कि उन्हें सड़कों पर कूड़ा-करकट तक बीनना पड़ा यानि इस खिलाड़ी को एक बुरे सपने की तरह वो दिन गुजारने पड़े।

क्रिस गेल को जब सड़कों पर से उठाना पड़ा कचरा, परिवार की हालात थी काफी तंग:-आज सड़कों पर कचरा उठाने वाला और भूख मिटाने के लिए चो”री करने वाला वही खिलाड़ी करोड़ों में खेल रहा है। आज उसके पास एक आलिशान बंगला है। गाड़ी है नौकर-चाकर है तो साथ ही एक बहुत ही रॉयल लाइफ जी रहे हैं। जिसका नाम है क्रिस गेल!

आज हम आपको टी20 क्रिकेट के यूनिवर्सल बॉस की वहीं बहुत ही गरीबी की कहानी बताने जा रहे हैं। क्रिस गेल का जन्म जमैका में एक बहुत ही गरीब परिवार में हुआ जिस परिवार के पास अपना परिवार चलाने तक के लिए संघर्ष करना पड़ता था। इसी कारण से एक कच्ची झोपड़ी में जन्म लेने वाले गेल की मां को सड़कों पर मूंगफली बेचनी पड़ती थी।

खुद गेल ने किया एक इंटरव्यू में खुलासा, नहीं होते क्रिकेटर तो सड़कों पर कटती जिंदगी:-गेल कुछ बड़े हुए तो उन्हें भी पढ़ाई के साथ ही मां का हाथ बंटाना था। क्रिस गेल की स्कूल फीस को चुकाने में असक्षमता के कारण उन्हें 10वीं कक्षा के बाद पढ़ाई छोड़नी पड़ी। इसके बाद उन्हें सड़कों पर पड़ा कचरे में से प्लास्टिक की चीजों को उठाना पड़ा जिसे बेच कर वो अपने खाने का जुगाड़ कर पाते थे।

ये हम नहीं बल्कि खुद क्रिस गेल कह रहे हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू में खुलासा किया कि “उन्हें एक बार भूख लगने के कारण चोरी तक करनी पड़ी। गेल ने बताया कि एक बार उन्हें बहुत भूख लगी और घर में खाने के लिए कुछ नहीं था। उनकी जेब में भी पैसे नहीं थे, तो उन्हें पेट भरने के लिए चोरी करनी पड़ी। अगर वो क्रिकेट नहीं खेलते जो आज भी उनकी जिंदगी सड़कों पर ही कटती।”

क्रिस गेल ने अपने डेब्यू के 6 साल बाद बदला खेल और जीवन:-क्रिकेट जगत में फटाफट क्रिकेट के सबसे खतरनाक बल्लेबाज क्रिस गेल का कद आज किसी से छुपा नहीं है। क्रिस गेल ने साल 1999 में इंटरनेशनल क्रिकेट में अपना डेब्यू किया। लेकिन खेल शुरू करने के 6 साल बाद उन्हें जबरदस्त सदमा लगा जब उन्हें पता चला कि उनके दिल में छेद है।

इसके बाद तो क्रिस गेल ने अपने जीवन जीने का तरीका और खेलने के तरीके को ही बदल दिया। वो इसके बाद बड़े खतरनाक तरीके से बल्लेबाजी करने लगे तो साथ ही मस्तमौला जीवन बिताने लगे। आज उन्हें सबसे आक्रमक बल्लेबाजों में से एक माना जाता है जो टी20 में कई कीर्तिमान स्थापित कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.