हिजाबी बाला फ़लक ज़मा ने फिर किया देश का नाम रौशन, राज्य में MBBS फाइनल ईयर में किया टॉप

पांच वर्षो तक यूनिवर्सिटी टॉपर रही फ़लक ज़मा ने अबकी बार पूरे प्रदेश में अपना नाम रोशन किया है। हल्द्वानी की 2017 बैच की MBBS अंतिम वर्ष की छात्रा फलक जमा ने पूरे प्रदेश में टॉप

उत्तराखंड न्यूज़ एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट क मुताबिक़ फलक ने 2017 में इंटर किया था जिसमें उसने 96.6 अंक प्राप्त किये थे। 2017 में ही एम.बी.बी.एस में एडमिशन ले लिया जिसमे आज रिजल्ट आने पर फलक ने 669 अंको से पूरे प्रदेश में टॉप किया है। आपको बता दें की फ़लक के पिता जी शमशुल ज़मा हल्द्वानी में राजकीय मेडिकल कॉलेज में सीनियर टेक्नीशियन के पद पर हैं जबकि उनकी मां माँ गृहणी हैं।

रिजल्ट आने के बाद फलक अपने कॉलेज के प्राचार्य डा. अरुण जोशी से मिलने पंहुची जिसके बाद पूरे प्रदेश से और तमाम लोगो से फ़लक और उसके परिवार को बधाइयाँ आ रही हैं जिससे पूरे परिवार में काफी ख़ुशी का माहौल देखने को मिल रहा है।

प्रोफ़ेसर आई.डी. सक्सेना का शुमार चिकित्सा क्षेत्र के जाने-माने विद्वानों में होता है. प्रोफेसर सक्सेना ने 1962 से 2002 तक बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय को अपनी सेवाएँ दीं. इस दौरान उन्होंने मेडिकल के स्नातक और स्नातकोत्तर के असंख्य छात्र-छात्राओं को शिक्षित किया. वे वर्ष 1971-72 में वे प्रतिष्ठित कॉमनवेल्थ मेडिकल फेलोशिप से सम्मानित हुए. 2017 में प्रोफेसर सक्सेना का निधन हो गया था, जिसके बाद उनकी स्मृति में प्रोफ़ेसर आई.डी. सक्सेना मेमोरियल अवार्ड स्थापित किया गया. यह पुरुस्कार राजकीय मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस में अध्ययनरत सभी वर्षों के छात्र-छात्राओं में फिजियोलॉजी में सर्वाधिक अंक पाने वाले को दिए जाने का निर्णय लिया गया था. 2018 में फ़लक ज़मा को इस आवार्ड से नवाज़ा गया था।

फलक ज़मा का ताल्लुक एक बहुत साधारण मुस्लिम परिवार से है. फलक की शुरुआती शिक्षा हल्द्वानी में ही हुई है. अपने छात्र-जीवन की शुरूआत से ही फलक बेहद प्रतिभावान रहीं और अपनी बोर्ड परीक्षाओं में उन्होंने दस में से दस का जीपीसीए हासिल कर दिखाया. इंटर के बाद उन्होंने राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में दाखिला लिया, जिसमें अब उन्होंने पूरे राज्य में टॉप किया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.