VIDEO: फिर उठा मिस्र की 2500 साल पुरानी परंपरा से पर्दा, सोने की जीभ वाली मिली दो ममी देखिए…

मानव सभ्यताओं और पिरामिडों के देश के नाम से दुनिया भर में पहचाने जाना वाले मिस्र (Egypt) में अब 2500 साल पुरानी दो कब्रें मिलीं है। काहिरा में पर्यटन और पुरावशेष मंत्रालय ने इन मकबरों की जानकारी देते हुए बताया कि ऊपरी मिस्र के मिन्या गवर्नमेंट में सैट राजवंश की दो क’ब्रों की खोज की गई है। इसकी खोज एक स्पेनिश पुरातात्विक मिशन द्वारा की गई थी। इन मकबरों में कुछ ऐसी चीजें भी मिली है, जिनको जानकर आप हैरान रह जाएंगे।

जानकारी के मुताबिक दो अलग-अलग मकबरों से एक महिला और एक पुरुष की ममी मिली है, जिसको 2500 साल पुराना बताया जा रहा है। 2 अज्ञात शख्सियत के मिले अव’शेषों में से एक ममी के अंदर सोने की जीभ भी मिली है। रिपोर्टस के मुताबिक यह मकबरा लाइम स्‍टोन यानी चूना पत्थर से बना है।

पुरातत्‍वविदों के अनुसार मकबरे में मिले पुरुष के अवशेष और क’ब्र पूरी तरह से सुरक्षित है। इस मकबरे को उसको दफनाने के बाद सील किया गया था, जिसके चलते अंदर से कई अद्भुत कलाकृतियां वाली चीजें भी पुरातात्विक टीम को मिली है।

मिस्र के मिन्या प्रांत में सैट राजवंश (664 ईसा पूर्व -525 ईसा पूर्व) के दौरान की यह दोंनों क’ब्रें है। बार्सिलोना यूनिवर्सिटी के स्पेनिश पुरातत्विदों के ग्रुप को खोज के दौरान दो अज्ञात शख्सियत के अवशेष मिले थे, जिनमें से एक मकबरे में सोने की जीभ भी मिली। कब्र के अंदर एक महिला के आकार की ममी के साथ एक चूना पत्थर का ताबूत पाया गया था। इसी के साथ एक अज्ञात व्यक्ति के अवशेष भी पास में रखे मिले थे।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक सुप्रीम काउंसिल ऑफ एंटिक्विटीज के महासचिव मुस्तफा वजीरी ने कहा कि बार्सिलोना विश्वविद्यालय के मिशन को एक क’ब्र में सोने की जीभ वाले दो अज्ञात व्यक्तियों के अवशेष मिले हैं। वजीरी ने बताया कि मकबरे की शुरुआती स्टडी से पता चला है कि इसे पहले प्राचीन काल में खोला गया था। इस बीच दूसरा मकबरा पूरी तरह से बंद था और मिशन ने इसे पहली बार खुदाई के दौरान खोला।

पुरातत्‍वविदों की टीम ने बताया कि जहां पुरुष के अवशेष और कब्र पूरी तरह से सुरक्षित तो वहीं महिला के अवशेष अच्‍छी स्थिति में नहीं हैं। खोज करने वाली यूनिवर्सिटी ऑफ बार्सीलोना ने जानकारी देते हुए बताया कि यह क’ब्रें मिस्र के 26वें राजवंश की है। वहीं ममी से मिली सोने की जीभ की कंडीशन काफी अच्‍छी है।

बता दें कि प्राचीन मिस्र की ममियों में अधिकतर सोने की जीभ मिलती थी। इसे पीछे की वजह यह है कि मरे हुए शख्स के पास सोने की जीभ को अंत‍िम संस्‍कार के दौरान इसलिए रखा जाता है कि उसकी आत्‍मा प्राचीन देवता ओसिरिस से बात कर सकें।

वहीं खुदाई मिशन की देखरेख करने वाले हसन आमेर ने कहा कि कैनोपिक बर्तन वाले दो ताबूतों के अलावा, दूसरे मकबरे में एक मानव चेहरे के साथ एक चूना पत्थर के ताबूत को संरक्षण की अच्छी स्थिति में खोजा गया है।

उन्होंने आगे कहा कि एक बर्तन में 402 उषाबती मूर्तियां थीं, जो कि फैएंसे से बनी थीं, छोटे ताबीज और हरे मोतियों का एक सेट भी था। हाल ही के सालों में मिस्र में कई बड़े पैमाने पर पुरातात्विक खोजें की गई हैं, जिनमें फैरोनिक क#ब्रें, मूर्तियां, ताबूत और ममी मिली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.