एन’काउंटर स्पेशलिस्ट IPS असीम अरुण योगी सरकार में बने मंत्री, नौकरी छोड़ BJP में आए, योगी कैबिनेट में मिली जगह, जानें अब तक का सफर

Yogi New Cabinet द,लित और जाटव समाज से आने वाले पूर्व आईपीएस असीम अरुण को इस बार योगी सरकार में मंत्री बनाया गया है। वो पु,लिस की नौकरी छोड़कर, वीआरएस लेकर राजनीति में उतर रहे हैं। बीजेपी में उनकी एंट्री इसलिए भी खास थी कि पार्टी को एक पूर्व पु,लिस अफसर के रूप में बड़ा द,लित चेहरा मिल रहा था। असीम अरुण द,लित हैं और जाटव समाज से आते हैं। असीम अरुण के पिता श्रीराम अरुण बहुत ही धा,र्मिक स्वभाव के थे और वो भी आईपीएस थे। उनके सरल स्वभाव से लोग उनके पास आते थे।

बीजेपी ने उन्हें बहुत ही सोची समझी रणनीति के तहत पहले पार्टी में शामिल करवाया, फिर चुनाव लड़वाया और अब मंत्री बना दिया। जाटव समाज जो कि मायावती को कोर वोट बैंक माना जाता है, उसमें बीजेपी ने सें,ध लगाई और आगे भी ये वोटर पार्टी के साथ और बड़ी संख्या में जुड़े, जाहिर है यही पार्टी की मंशा है और असीम अरुण को मंत्री बनाकर संदेश भी यही दिया गया है।

आपको बता दें कि 1994 बैच के IPS असीम अरुण मूलरूप से कन्नौज के रहने वाले हैं। असीम अरुण के पिता स्वर्गीय श्री राम अरुण यूपी के तेज तर्रार आईपीएस थे। श्रीराम अरुण यूपी के डीजीपी भी रह चुके हैं।

असीम अरुण की माँ लेखिका:असीम अरुण की मां स्वर्गीय शशि अरुण लेखिका रही हैं। असीम अरुण का जन्म 03 अक्टूबर 1970 को बदायूं में हुआ था। असीम अरुण की प्रारंभिक शिक्षा लखनऊ के सेंट फ्रांसिस कॉलेज में हुई थी। इसके बाद बीएससी की पढ़ाई के लिए दिल्ली चले गए। इंडियन पुलिस सर्विस में आने के बाद यूपी के कई जिलों में तैनात रहे हैं।

लखनऊ में किया था एन,,काउंटर:असीम अरुण की गिनती तेजतर्रार पुलिस अफसरों में होती थी। वो एटीएस के आईजी रहे। लखनऊ में सैफुल्लाह के एन,,काउंटर में उनकी अहम भूमिका रही। कई साजिशों का उन्होंने खुलासा किया। एडीजी पद पर प्रमोट होने के बाद कानपुर के पुलिस कमिश्नर बनाए गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.