मुकुल रोहतगी के इन 5 तर्कों से आर्यन खान को मिली जमानत, कोर्ट में नहीं चलीं ASG की दलीलें

आर्यन खान (Aryan Khan Granted Bail) को जमानत मिल गई है। पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी (Mukul Rohatgi) ने बॉम्‍बे हाई कोर्ट में उनके लिए पैरवी की। रोहतगी ने कोर्ट ऐसे तर्क दिए, जिनके आगे NCB के वकील ASG अनिल सिंह की दलीलें नहीं टिक पाईं। जानिए वो 5 दलीलें जिनकी बदौलत आर्यन को जमानत मिली।

जस्‍टि‍स नितिन साम्‍ब्रे की अदालत में जो कुछ हुआ, उसे भी समझना जरूरी है। यह जानना महत्‍वपूर्ण है कि आख‍िर तीनों खासकर आर्यन खान के वकील मुकुल रोहतगी (Mukul Rohatgi) ने कोर्ट में ऐसी कौन सी दलीलें दीं, जिनके आगे NCB की ओर से पेश ASG अनिल सिंह के सभी वर्क धाराशायी हो गए।

दलील नंबर – 1 (कॉन्‍’शस प”जेशन)
ASG अनिल सिंह: आर्यन खान ने पहली बार ड्र”ग्‍स नहीं ली है। कई साल से वह इसका सेवन करते आ रहे हैं। हमारे पास इस बात के सबूत हैं कि वह ड्र”ग्‍स उपलब्‍ध करवाते थे। हमने कॉन्‍’शस पजे”शन का तर्क दिया है। यदि दो व्यक्ति एक साथ हैं और एक व्यक्ति को दूसरे व्यक्ति के पास मौजूद पदार्थों के होने और उपयोग के बारे में पता है, तो पहला व्यक्ति भी सचेत रूप से ड्र”ग्‍स के क”ब्‍जे की धारा लगेगी। आर्यन और अरबाज बचपन के दोस्त हैं। वो एकसाथ वहां पहुंचे थे। एक ही कमरे में रहने वाले थे। वे तर्क दे रहे हैं कि हमने सेवन के बारे में पता लगाने के लिए मेडिकल टेस्‍ट नहीं किया है। हम यहां सिर्फ ड्रग्‍स की बरामदगी के बारे में बहस कर रहे हैं। आर्यन खान के पास ड्र”ग्‍स का ‘कॉन्‍”शस पजे”शन’ था।

मुकुल रोहतगी: आर्यन को नहीं पता था कि अरबाज क्या ले जा रहा था, मान लीजिए कि वह जानते थे .. लेकिन आप हमारे खिलाफ जो सबसे अधिक आरोप लगा सकते हैं वह सामूहिक रूप से कर्मश‍ियल मात्रा का है। इसे साजिश के साथ जोड़ा गया है। अरबाज मर्चेंट आर्यन के दोस्‍त हैं। वह आर्यन के नौकर नहीं हैं। उन पर आर्यन का कोई कंट्रोल नहीं है। ऐसे में उनके पास क्‍या है और क्‍या नहीं, इससे आर्यन का क्‍या लेना-देना। सेवन की बात हम नहीं मानते। चलिए, एक वक्‍त के लिए मान भी लें तो कितनी मात्रा में ड्रग्‍स है। यह पर्सनल यूज के लिए है। इसमें अध‍िकतम स”जा 1 साल है। यह कोई कर्मश‍ियल मात्रा नहीं है।

दलील नंबर – 2 (सा”जिश और ड्र”ग्‍स का सेवन)
ASG अनिल सिंह: यह मामला ड्रग्‍”स के कॉन्‍”शस पजे”शन और सेवन करने की योजना के बारे में है। एनडीपीएस अधिनियम की धारा 29 यह नहीं कहती है कि व्यक्ति के पास ड्रग्‍”स का कब्”जा होना चाहिए। जब हम धारा 28 और 29 को लागू करते हैं तो कर्मश‍ियल मात्रा की बात शुरू हो जाती है। उन्होंने बड़ी मात्रा यानी कर्मश‍ियल मात्रा में डी”ल की कोश‍िश की है। एक ही दिन में सभी जगहों से आए सभी 8 लोगों के पास से कई पदार्थ पाए गए। आप ड्र”ग्‍स की मात्रा और उनके प्रकार देखें। जब मैं साजिश की बात कहता हूं, तब मैं सभी के पास से बरामद ड्र”ग्‍स की बात करता हूं। यह एक पार्टी थी। हमारे पास मुनमुन धमेचा, नुपुर और मोहकी के दो और पंचनामे हैं। ड्रग्‍”स की जो मात्रा बरामद हुई है वो कर्मश‍ियल है। क्रू”ज पर कई तरह के ड्र”ग्‍स थे। क्रू”ज दो दिनों का था। ऐसा नहीं हो सकता कि यह पर्सनल यूज के लिए हो, क्योंकि मात्रा अध‍िक थी और ड्र”ग्‍स के प्रकार भी कई। यही कारण है कि हमने धारा 28 और 29 लागू किया है। यह संयोग नहीं हो सकता है कि क्रू”ज पर 8 लोग, इतनी मात्रा में इतने तरह के ड्रग्‍”स के साथ पाए गए।

मुकुल रोहतगी: जहाज पर 1300 लोग थे और आर्यन और अरबाज के बीच ही कनेक्शन था। जिस साजिश का आरोप लगाया गया है। यहां कोई साजिश नहीं थी, क्योंकि कोई किसी को नहीं जानता। ना ही इंटेन्‍शन यानी मन का मिलन हुआ है। कोई चर्चा नहीं हुई कि वे मिलेंगे और ड्रग्‍”स का सेवन करेंगे, क्‍या यह साजिश है। यदि एक होटल में अलग-अलग कमरों में लोग हैं और वे स्‍मो”क करते हैं तो होटल में सभी साजिश में शामिल हैं? इस मामले में इसे साजिश करार देने के लिए कोई सबूत नहीं हैं। आर्यन सिर्फ अरबाज को जानते थे, किसी और को नहीं जानते।

दलील नंबर – 3 (संयोग, अनुमान और साजिश)
ASG अनिल सिंह: मैं को”र्ट में मधु लिमये का सुप्रीम कोर्ट का फैसला दिखाता हूं। इन फैसलों में कहा गया है कि न्यायिक आदेश के जरिए रि”मांड आदेश पारित किया गया है। मेरा तर्क है कि वह ड्र”ग्‍स उनके कब्‍जे में पाया गया था। वह ड्र’ग त”स्करों से जुड़ा था। यह कर्मश‍ियल मात्रा थी। इसलिए हमने 28 और 29 की धारा लगाई है। अ”रेस्‍ट मेमो और रि”मांड में सिर्फ 4 घंटे की देरी हुई है। जो बात अ”रेस्‍ट वा”रंट में नहीं है, वह रिमांड अप्‍लीकेशन में है। इसलिए यह अवैध गि”रफ्तारी नहीं हो सकती। सा”जिश साबित करना मुश्किल है। सा”जिशकर्ता ही जानता है कि उन्होंने कैसे साजिश रची, मैं इसे अदालत के संज्ञान में छोड़ दूंगा।

मुकुल रोहतगी: यह सच है कि साजिश साबित करना मुश्किल है। यह भी साबित करना मुश्‍क‍िल है कि सब के मन पहले से मिले हुए थे। लेकिन फैक्‍ट्स की अनदेखी नहीं की जा सकती। साजिश के लिए ‘मन का मेल’ होना चाहिए। जब कोई किसी को जानता ही नहीं, पहले कभी बात नहीं हुई, मुलाकात नहीं हुई तो फिर इंटेन्‍शन कब और कैसे मिलेंगे। और 6 ग्राम के लिए कॉन्‍”शस प”जेशन कैसे हो सकता है। उनका तर्क है कि यह संयोग नहीं हो सकता, इसलिए यह एक साजिश है। साजिश का अनुमान से कोई लेना-देना नहीं है। आपको सबूत देने होंगे।

दलील नंबर – 4 (कॉन्‍”शस प”जेशन और कनेक्‍शन)
ASG अनिल सिंह: हम ऐसा धारा 28 और 29 के कारण कर रहे हैं। उनका तर्क है कि अ”रेस्‍ट मेमो में धारा 28 और 29 नहीं है। लेकिन गि”रफ्तारी के चार घंटे बाद पहला रि”मांड था। पहले रि”मांड में भी धारा 28 और 29 है। मजिस्ट्रेट कोर्ट ने रि”मांड देते वक्‍त धारा 28 और 29 पर विचार किया। धारा 37 की कठोरता सिर्फ 28 और 29 की वजह से है। उनका तर्क था कि उनके पास से ड्र”ग्‍स बरामद नहीं हुए। हो सकता है कि यह आपके पास से नहीं मिला हो, लेकिन फिर पंचनामा देखें। अरबाज के पास से मिला था। मैं अब पंचनामा पढ़ रहा हूं। यहां अरबाज ने अपने जूतों में से ड्र”ग्‍स निकाला है और एनसीबी अधिकारी को दिया है। कॉ”न्‍शस प”जेशन की बात से इनकार नहीं किया जा सकता है।

मुकुल रोहतगी: मैं अब एनडीपीएस अधिनियम की धारा 67 के तहत दिए गए फैसलों पर आता हूं। नवाज मलिक के फैसले पर आते हैं। यह एक मामला था जहां एक कार थी और तीन लोग थे और ड्र”ग्‍स ले जा रहे थे। तो फिर वहां निवेदन किया गया था कि यह बरामदगी कॉन्‍”शस में नहीं था। अदालत इस बात पर चर्चा करती है कि कॉन्‍”शस प”जेशन क्या है। फिर वहां बरामदगी का मानक भी वही है जो तथ्यों के आधार पर है। यह के”स पूरी तरह से इस मामले पर भी लागू होता है। अरबाज जो ले जा रहे थे, वह उनके पास था, लेकिन आप दूसरों के लिए ऐसा कैसे कहते हैं। ऐसा नहीं है कि वे एक साथ ले जा रहे थे।

दलील नंबर -5 (वॉट्सऐप चैट्स)
ASG अनिल सिंह: वॉट्सऐप चैट पर विवाद नहीं किया जा सकता, क्‍योंकि हमारे पास 65B में बयान हैं। वॉट्सऐप चैट्स में कई बार ड्र”ग्‍स का जिक्र है। पेड”लर्स और स”प्‍लायर से बात है। इसके कई जगहों पर कर्मश‍ियल मात्रा का भी जिक्र है। यह साजिश की ओर इशारा करता है। इसलिए हमने धारा 29 लगाई है। इसकी जांच होनी चाहिए। यह ड्र”ग्‍स की खुरीद फरोख्‍त का मामला है। इसलिए धारा 37 लागू की गई है।

मुकुल रोहतगी: अ”रेस्‍ट मेमो में मोबाइल फोन की ज”ब्‍ती का जिक्र नहीं है। ऐसे में उसमें से मिले वॉट्सऐप चैट्स मान्‍य नहीं हैं। जिन चैट्स की बात हो रही है वह 2 साल पुराने हैं, उनका क्रू”ज के”स से कोई लेना-देना नहीं है। कुछ एक चैट्स हैं, जो इस के”स से संबंध‍ित हैं, लेकिन वह ऑनलाइन पोकर गेम को लेकर हैं। उन्‍हें ड्र”ग्‍स से जोड़ना सही नहीं है। हमारे काबिल दोस्‍त की तरफ से चैट्स अदालत को सौंपे नहीं गए हैं, ऐसे में हमारे पास उसकी कॉपी नहीं है। हमारी स्‍थ‍िति हैंडिकैप्‍ड की तरह है। हमें नहीं पता आपके क”ब्‍जे में क्‍या है और क्‍या नहीं। क्‍योंकि ये कोर्ट के रिकॉर्ड में नहीं है, इसलिए इन पर बहस करना भी सही नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.