नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े का बड़ा राज़ किया पर्दाफाश, पिता का नाम दाऊद माता का नाम जाहिदा बानो, कहा- ‘यहां से शुरू हुआ फ’र्जीवाड़ा

समीर वानखेड़े चर्चा में हैं। आर्यन मामले को लेकर हाईलाइट हो गए हैं। नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े के बड़े राज़ का पर्दाफाश किया है।महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े पर नए आरोप लगाए हैं. इसमें नवाब मलिक ने दावा किया कि समीर दलित नहीं मुस्लिम हैं और फर्जीवाड़ा करके IRS में कोटा से नौकरी पायी।

महाराष्ट्र में ड्रग्स केस की जांच कर रहे NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) पर अब नया आरोप लगा है. अब महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक…नवाब मलिक ने एक बर्थ सर्टिफिकेट की कॉपी शेयर की है. दावा किया गया है कि यह बर्थ सर्टिफिकेट समीर वानखेड़े का है. इसमें पिता का नाम ‘दाऊद क. वानखेड़े’ वहीं धर्म की जगह पर ‘मुस्लिम’ लिखा है.

सूत्रों के मुताबिक- इसे लेकर समीर वानखेड़े ने कहा कि मुझे अपने जन्म प्रमाण पत्र को लेकर नवाब मलिक के एक ताजा ट्वीट के बारे में पता चला है. यह उन सभी चीजों को लाने का एक घटिया प्रयास है, जो इस सब से असंबंधित है.

मेरी मां मुस्लिम थी तो क्या वह मेरी मृत मां को इस सब में लाना चाहते हैं? मेरी जाति और पृष्ठभूमि को सत्यापित करने के लिए वह, आप या कोई भी मेरे मूल स्थान पर जा सकता है और मेरे परदादा से मेरे वंश का सत्यापन कर सकता है, परन्तु उसे यह गंदगी इस तरह नहीं फैलानी चाहिए.  मैं यह सब कानूनी रूप से लड़ूंगा और अदालत के बाहर इस पर ज्यादा टिप्पणी नहीं करना चाहता.

नवाब मालिक द्वारा जारी किये गए जन्म प्रमाणपत्र में समीर वानखेड़े के पिता और माता का नाम देखा जा सकता है. उनके पिता का नाम दाऊद k वानखेड़े और मां का नाम जाहेदा बेगम बानो लिखा है. जिसके बाद से यह ट्वीट तेजी वायरल हो रहा है.

बता दें कि आर्यन ख़ान ड्रग्स मामले की जांच कर रहे मुंबई NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े को खुद को फंसाए जाने और गि’रफ़्तारी का ड’र भी सता रहा है. उन्होंने रविवार को मुंबई पु’लिस प्रमुख को एक चिट्ठी लिखी है जिसमें खुद को फं’साए जाने के खिलाफ कानूनी कार्रवाई से सुरक्षा मांगी है.

वानखेड़े ने मुंबई पु’लिस प्रमुख को पत्र लिखकर कहा कि उनके खिलाफ सम्मानित हस्तियों द्वारा जेल और बर्ख़ास्तगी की धमकी जारी की गई है और अज्ञात व्यक्ति उन्हें झूठे मामले में फंसाने की योजना बना रहे हैं.

दरअसल, उनकी इस चिट्ठी को महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक की हालिया टिप्पणी के संदर्भ में देखा जा रहा है, जिसमें उन्होंने कहा था कि वानखेड़े एक साल के भीतर अपनी नौकरी खो देगा और हमारे पास उसके फर्जी मामलों के सबूत हैं. इस के’स की जांच में लगे जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर आरोप अब खुद एनसीबी के एक गवाह प्रभाकर सईल ने लगाया है. प्रभाकर का कहना है कि उसने एक अन्य गवाह किरण गोसावी को 18 क’रोड़ रु’पए की डील की बात करते सुना और ये भी सुना की इसमें से आठ करोड़ रुपए वानखेड़े को दिए जाएंगे. एनसीबी ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.