क्या रोजे की हालत में बीवी से हम’बि’स्तरी कर सकते हैं- इ’स्लाम की रौशनी में मौलाना ने बताया सही रास्ता

Ramzan 2022: रमजान के महीने में ज्‍यादा से ज्‍यादा समय खुदा की इबादत में बिताने के लिए कहा गया है. साथ ही कुछ काम करने की मनाही भी की गई है. रोजेदारों को इन कामों से बचना चाहिए.

रमजान का महीना शुरू हो चुका है. 2 अप्रैल 2022, शनिवार को चांद दिखने के बाद आज यानी कि 3 अप्रैल को भारत में पहला रोजा रखा जा रहा है. इस्लामी कैलेंडर के हिसाब से रमजान 9वां महीना होता है. खुदा की इबादत करने के लिए इसे सबसे पाक महीना माना जाता है. इस पूरे महीने रोजा रखने के बाद मुसलमान ईद-उल-फितर मनाते हैं. इस ईद पर सेवईं बनाई जाती हैं, इसलिए इसे मीठी ईद भी कहते हैं. इस दौरान कुछ खास बातों का ध्‍यान रखना चाहिए.

दिल पर काबू करना सिखाता है रमजान:रमजान के महीने में रोजे रखने का मतलब केवल खाने-पीने पर काबू रखना नहीं है, बल्कि यह महीना अपने दिल और सोच पर काबू रखना भी सिखाता है. यह महीना बताता है कि ना तो बुरा देखें, ना बुरा बोलें और ना ही बुरे ख्‍याल मन में लाएं. यहां तक कहा गया है कि इस महीने में इंसान के साथ उसके जिस्म के हर हिस्से भी रोजे में होते हैं. इसलिए इस दौरान कुछ कामों से बचना चाहिए.

– रमजान के पाक महीने में शा’रीरिक सं’बंध बनाने की मनाही की गई है. इस महीने में व्‍यक्ति को अपनी इच्‍छाओं पर नियंत्रण रखने के लिए कहा गया है. साथ ही किसी भी तरह का अनैतिक व्‍यवहार नहीं करना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.