समीर वानखेड़े गए काम से, गृह मंत्रालय ने कड़ी कार्रवाई का दिया आदेश…

आर्यन खान ड्र,ग्स (Aryan Khan Dru,gs case) मामले में सही से जांच न करने को लेकर गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) के खिलाफ सख्त कार्रवाई के आदेश जारी किए हैं. सरकारी सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया कि इस मामले की जांच के लिए गृह मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय को आदेश दिया है. सूत्रों ने ये भी बताया कि समीर वानखेड़े के खिलाफ फर्जी जाति प्रमाण पत्र मामले में पहले से ही जांच की जा रही है.

इससे पहले शुक्रवार को मुंबई क्रूज केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को नार,कोटि,क्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने क्लीनचिट दे दी. NDPS कोर्ट में नार,कोटि,क्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने आर्यन खान के खिलाफ चार्ज,शीट पेश की. इंडिया टुडे से जुड़ीं विद्या के मुताबिक दाखिल चार्जशीट में आर्यन खान सहित 6 लोगों का नाम शामिल नहीं है. अधिकारियों के मुताबिक मामले की जांच के दौरान आर्यन के खिलाफ ड्र,ग्स केस में कोई सबूत नहीं मिला.

आजतक के अरविंद ओझा के मुताबिक इस मामले में एनसीबी के डीजी एसएन प्रधान ने माना कि NCB अधिकारी समीर वानखेड़े और उनकी टीम से गलती हुई. समीर वानखेड़े मुंबई क्रूज केस में जांच अधिकारी थे.

डीजी एसएन प्रधान ने ये भी कहा,

अगर पहली जांच टीम से गलती नहीं होती, तो SIT जांच टेक ओवर क्यों करती? कुछ तो कमियां रह गईं, तभी तो एसआईटी ने केस अपने हाथ में लिया. इन कमियों को दूर करने के लिए या फिर कम से कम आगे की कार्रवाई सही हो, इसको ध्यान में रखते हुए कार्रवाई की गई.

इतना ही नहीं एनसीबी डीजी ने संकेत दिए कि छापेमारी और जांच के दौरान चूक के आरोप में क्रूज पर छापेमारी करने वाले एनसीबी के अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच शुरू की जा सकती है.

जांच के दौरान ऐसा कोई सबूत नहीं मिला कि क्रूज पार्टी में आर्यन खान किसी साजिश का हिस्सा थे.

NCB को ऐसा भी कोई सबूत नहीं मिला जिससे ये पता चले कि आर्यन खान का संबंध किसी अंतरराष्ट्रीय ड्र,ग्स सिं,डि,केट से था.

व्हाट्सएप चैट से भी यह नहीं पता चलता कि आर्यन खान किसी अंतरराष्ट्रीय सिं,डिके,ट का हिस्सा हैं.

मामले की जांच कर रही एसआईटी की टीम ने पाया कि क्रूज पर जिस छापेमारी के दौरान आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था. उस छापेमारी के दौरान में कई तरह की अनिय,मितताएं भी की गई थीं.

आर्यन खान के पास भी कोई ड्र,ग्स नहीं मिला था.

एसआईटी ने ये संकेत भी दिया है कि छापेमारी के दौरान अधिकारियों को आर्यन खान का फोन लेने की कोई जरूरत नहीं थी.

इस मामले में कई आरोपियों के पास से अलग-अलग ड्र,ग्स मिली थी. लेकिन उसे इकट्ठा दिखाया गया. ये काम NDPS के नियमों के तहत नहीं था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.